Connect with us
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग

महिला सशक्तिकरण पर जावेद अख्तर का बयान

श्रीलंका में महिलाओं के नकाब के प्रतिबंध पर बोले जावेद अख्तर

Published

on

Javed Akhtar

भारत ही नहीं दुनिया भर में महिलाओं की समानता को लेकर काफी संघर्ष देखने को मिलता है। हम आप को बता दें कि भारत में महिला और पुरुष के बीच के अंतर की बात करें तो 1000 पुरुषों पर लगभग 832 महिलाओं को जनसंख्या मे पाया जाता है। यह भारत का सेक्स रसियो जहाँ जनगढ़ना के मुताबिक हैं। यह तो सत्य है कि यह भारत के लिए काफी आश्चर्यचकित करने वाली बात है, जहाँ एक तरफ ‘बेटी बचाओं, बेटी पढाओ’ जैसी योजनाएं चलायी जा रही हो।

दरअसल हाल ही के दिनों में श्रीलंका द्वीप की कई जगहों पर आतंकी हमलों में लगभग 200 से भी अधिक लोगों को अपनीं जाने गवानी पड़ी और 500 से भी ज्यदा लोग घायल हुए थें। इसी बीच श्री लंका सरकार नें कई आतंकियों को पकड़ा भी नहीं । श्रीलंका सरकार के मुताबिक उनमें से कुछ पाकिस्तानी आतंकी घोषित किये गये हैं । इसीहमले के चलते श्रीलंका सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को बुरका पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया है।इस प्रतिबंध पर लेखक जावेद अख्तर ने इस विषय पर अपनी प्रतिकिया साझा किया हैं ।

जावेद अख्तर ने लिखा कि “कुछ लोग मेरे बयान को विकृत करने की कोशिश कर रहे हैं। मैंने कहा है कि श्री लंका में यह सुरक्षा कारणों से किया गया है, लेकिन वास्तव में यह महिला सशक्तीकरण के लिए आवश्यक है। चेहरे को ढंकना बंद कर देना चाहिए चाहे वो नकाब हो या घूँघट। “

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
>