Connect with us
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

ट्रेंडिंग

चौकीदारों ने शत्रुघ्न सिन्हा को किया खामोश

Published

on

Shatrughan Sinha-BJP-Lok-Sabha-Elections-Ravi-Shankar-Prasad

This article is also available in: English (English)

लोकसभा 2019 का चुनाव काफी नजदीक है, वहीँ सीटों का बटवारा और पार्टियों का गठजोड़ काफी ज़ोर-शोर से चल रहा है, एक तरफ पक्षधर पार्टी अपना पक्ष मज़बूत करने में लगी हुयी है। वहीँ टिकट बटवारे को लेकर काफी जद्दोजहद चल रही है। सत्ताधारी पार्टी ने अपने कई वरिष्ठ नेताओं का पत्ता साफ़ कर दिया है जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के जगह पर पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह चुनावी मैदान पर उतरेंगें। अब वक्त था बिहार का भारतीय जनता पार्टी के बिहार से सांसद रहे शत्रुघ्न सिन्हा को अब पार्टी से निकाल दिया गया है। बिहार के पटना जो शत्रुघ्न सिन्हा का संसदीय क्षेत्र था वहां से अब देश के कानून मंत्री और भारतीय पार्टी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद चुनाव मैदान में दिखेंगें।

फिल्मों में खामोश न रहने वाले शत्रुघ्न सिन्हा भारतीय जनता पार्टी में रह कर पार्टी के शत्रु बनें हुए थे। अपने बेबाक अंदाज़ में अपनी बात रखने वाले शत्रुघ्न सिन्हा को भारतीय जनता पार्टी को उनका यह अंदाज़ पसंद नहीं आय। आये दिन शत्रुघ्न सिन्हा अपनी पार्टी और पार्टी के कामों के प्रति अपना रुख जाहिर करते रहते थे। माना कि यह उनके अपने निजी अंदाज़ हुआ करते थे, लेकिन यह अंदाज़ पार्टी और पार्टी के मुख्य को पसंद नहीं आती थी। पार्टी में वे ऐसे नेता थे जो पार्टी के द्वारा किये गए कामों को लेकर अपना रुख जाहिर करते रहते थे। हाल ही में शत्रुघ्न सिन्हा पश्चिम बंगाल में महागठबंधन में पहुंच गए थे,जिसमें उन्होनें अपनी ही पार्टी को भला-बुरा सुनाया था। ऐसा माना जा सकता है कि उनके तीखे तेवर के कारण ही अब भारतीय जनता पार्टी ने उनकों खामोश कर दिया है। इस पर भी शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्विटर के ज़रिये अपने विचार साझा किये हैं।

 

विपक्ष से कयास
अब विपक्ष से यह कयास लगाए जा रहे हैं कि शत्रुघ्न सिन्हा बिहार के पटना से अपनी शीट से चुनावी मैदान में आ सकते हैं। गाँधी मैदान पटना से यह एक बड़ा चेहरा माने जाते हैं। जानकारी के लिए कि सुभाषचंद्र बोस, महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, राम मनोहर लोहिया और अटल बिहारी वाजपेयी भी रैलियां कर चुके हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी यहाँ रैलिया की है। ये पहलीबार 2009 में भारतीय जनता पार्टी से लोकसभा चुनाव जीते थे, इसके बाद पुनः 2014 के लोकसभा चुनाव में उनको अपार वोटों से विजय मिली थी। क्यों कि अब उनकी शीट से रविशंकर प्रशाद चुनाव लड़ रहे है। अगर “शत्रुघ्न सिन्हा’ इस जगह और अलग पार्टी से चुनाव लड़ते हैं,तो यहाँ का राजनितिक घमासान काफी मज़ेदार हों जायेगा।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
>