Connect with us

ट्रेंडिंग

कबीर सिंह: फिल्म का विरोध करने वालों पर भड़के शाहिद कपूर

यह एक फिल्म है, रियल लाइफ नहीं -शाहिद कपूर

Published at

on

shahid-kapoor

बॉलीवुड के ‘राजकुमार’ शाहिद कपूर इन दिनों अपनी आगामी फिल्म कबीर सिंह के प्रमोशन में व्यस्त हैं। कबीर सिंह कल यानि 21 जून को सिनेमा घरों में दस्तक देने को तैयार है। जहाँ इस फिल्म की लोग खूब तारीफ़ कर रहे हैं, वहीँ कुछ लोगों ने इस फिल्म का विरोध भी किया है। हालाँकि इस बार शाहिद ने ऐसे लोगों को मुंहतोड़ जवाब दिया है।

एक प्रतिष्ठित मीडिया हॉउस को दिए इंटरव्यू में जब शाहिद से फिल्म के विरोध को लेकर सवाल किया गया, तो उन्होंने कहा, “ऐसे विरोध का सामना मैं पहले भी कर चुका हूँ, पद्मावत और उड़ता पंजाब के रिलीज़ से पहले भी काफी हंगामा खड़ा किया गया था। मैं बता दूँ कि यह एक फिल्म है, रियल लाइफ नहीं। फ़िल्में एंटरटेनमेंट का ज़रिया होती हैं। काफी हार्ड वर्क के बाद फ़िल्में बनकर पूरी होती हैं। यहाँ सभी को खुश कर पाना मुश्किल है, पर हमारी कोशिश ज़ारी है।”

हम आपको बता दें कि कुछ लोगों ने इस फिल्म का विरोध ज़ाहिर करते हुए कहा है कि यह फिल्म हिंसा को बढ़ावा देती है। अब शाहिद ने उन सभी लोगों को अपना जवाब दे दिया है। यह फिल्म विजय देवरकोंडा की साउथ फिल्म अर्जुन रेड्डी की हिंदी रीमेक है। फिल्म का इंतज़ार अब आखिरकार खत्म होने वाला है। अब देखना ये है कि इस फिल्म में शाहिद कपूर का अभिनय दर्शकों को कितना पसंद आता है।

बॉलीवुड की ताज़ा तरीन खबरों के लिए सिने ब्लिट्ज़ के साथ बने रहें।

ट्रेंडिंग

ऑल्ट बालाजी और ज़ी5 की आगामी सीरीज़ ‘कहने को हमसफ़र है 3’ का खूबसूरत ट्रेलर हुआ रिलीज़!

‘कहने को हमसफ़र है 3’ ट्रेलर में 4 साल के लंबे अंतराल के बाद सभी की ज़िंदगी में आये बदलावों को चित्रित किया गया है।

Published at

on

पहले दो सीज़न की शानदार सफलता के बाद, इंतजार आखिरकार खत्म हो गया है क्योंकि ऑल्ट बालाजी और ज़ी5 अपनी सबसे सफल फ्रेंचाइजी ‘कहने को हमसफ़र है’ के तीसरे सीजन के साथ दर्शकों का फिर से मनोरंजन करने के लिए लौट आया है।

यह शो 6 जून को रिलीज होने वाला है, लेकिन उससे पहले दोनों प्लेटफार्म ने बहुप्रतीक्षित श्रृंखला के ट्रेलर रिलीज़ के साथ उत्साहित कर दिया है, जिसमें एक बार फिर रोनित रॉय, गुरदीप कोहली पुंज, मोना सिंह, अपूर्वा अग्निहोत्री सहित अदिति वासुदेवा जैसे भारतीय टेलीविजन उद्योग से दिग्गज कलाकार नज़र आएंगे।

ट्रेलर में 4 साल के लंबे अंतराल के बाद सभी की ज़िंदगी में आये बदलावों को चित्रित किया गया है। अनन्या एक सफल व्यवसायी और एक माँ है, वह पहले शांत थी लेकिन अब तूफानी एना बन गई है। दूसरी ओर पूनम ज़िन्दगी में आगे बढ़ गई है और अभिमन्यु के साथ खुशहाल वैवाहिक जीवन जी रही है। रोहित अब पूरी तरह से लापरवाह हो गए है और उनकी ज़िंदगी में कोई जिम्मेदारी नहीं है। कुछ भी खोने के लिए और देखभाल करने के लिए न होने के कारण, वह अपनी अशांति को या तो बाइक पर जाकर या फिर खुद से छोटी महिलाओं के साथ नासमझ रिश्ते बनाकर कम करता है। निशा (अंजुम फ़कीह) और अमायरा (अदिति वासुदेवा) की रोहित की ज़िंदगी में एंट्री के साथ, हर कोई यह सोच सकता है कि रोहित पूरी तरह से अपने नवीनतम रोमांस को एन्जॉय कर रहे है, लेकिन उसका अतीत उसे वास्तविकता स्वीकार करने में असमर्थ बना रहा है कि पूनम और अनन्या अब उसकी जिंदगी का हिस्सा नहीं हैं। ट्रेलर में आगे रोहित के कारण उनकी बेटियों के भवनात्मक आघात की झलक भी दिखाई गई है। रोहित और पूनम की बेटियों बानी और निक्की को अपने माता-पिता की असफल शादी के कारण जीवन में बहुत परेशानी और कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है और वे चीजें को सामान्य करना चाहते थे। ट्रेलर में उथल-पुथल सिर्फ़ यही तक सीमित नहीं है क्योंकि रोहित का अनन्या और पूनम के पतियों के साथ भी आमना-सामना होता हैं।

ट्रेलर के बारे में बात करते हुए, बहुमुखी अभिनेता रोनित बोसराय, जो कहने को हमसफ़र है 3 में रोहित मेहरा की भूमिका निभा रहे है, उन्होंने साझा किया, “मुझे लगता था कि यह शो दर्शकों को पसंद आएगा लेकिन इतनी बड़ी सफलता बनने की कभी कल्पना भी नहीं की थी। हमारे पहले 2 सीज़न पर अपना प्यार बरसाने और सीजन 3 को संभव बनाने के लिए दर्शकों का आभारी हैं। मेरे दर्शकों के लिए, मैं यह कहना चाहता हूं कि चौंकाने वाले खुलासे के साथ एक धमाकेदार सीज़न के लिए तैयार हो जाइये। उम्मीद है कि आप लोगों को उतना ही मज़ा आएगा, जितना हमें इसकी शूटिंग के दौरान आया था। आप इसे सुनिश्चित रूप से मिस नहीं करना चाहेंगे।”

गुरदीप कोहली कहती है कि, ‘इस सीज़न में दर्शकों को एक नई पूनम और उनके कई शेड्स देखने मिलेंगे। पहले से ही एक असफल विवाह और फिर एक बहुत छोटे व्यक्ति से पुनर्विवाह करने के बाद, अभी भी असुरक्षा की भावना है जो उसे परेशान करती है। मुझे खुशी है कि मैंने ऐसी भूमिका निभाई है जो तीन सीज़न में बहुत बदल गई है। शो ने एक बार फिर रिश्तों और भावनाओं को इतने परिपक्व तरीके से निभाया है कि मुझे यकीन है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे। ”

दो लोग जो एक-दूसरे से बेहद प्यार करते थे, जिन्होंने एक साथ रहने के लिए मुश्किलों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी, वे आज टूट गए हैं और एक-दूसरे से नफ़रत करते हैं। ठीक उसी जगह से शुरुआत करते हुए, जहाँ अंत हुआ था, ‘कहने को हमसफर है 3’ ने हमारे जहन में एक सवाल खड़ा कर दिया है – क्या फिर कभी प्यार पहले की तरह होगा?

 

Continue Reading

ट्रेंडिंग

एफडब्लूआइसीई ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से मांगी काम शुरू करने की अनुमति

पत्र में मुख्यमंत्री से पोस्ट-प्रोडक्शन के काम को इजाजत देने के लिए कहा गया है।

Published at

on

फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एमप्लॉइज ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर मुंबई फिल्म इंडस्ट्री का काम शुरु करने की अनुमति मांगी है। मंगलवार को भेजे गए इस पत्र में मुख्यमंत्री से पोस्ट-प्रोडक्शन के काम को इजाजत देने के लिए कहा गया है। साथ ही लिखा है, ‘अगर पोस्ट-प्रोडक्शन जैसे कामों के लिए अनुमति मिल जाती है तो कम से कम वर्कफ्रोस के साथ बंद स्टूडियो में काम किया जा सकता है और इससे बहुत राहत मिलेगी।

 लॉकडाउन खत्म होने के तुरंत बाद निर्माता अपने प्रोजेक्ट्स रिलीज करने को लिए तैयार रहेंगे। फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉईज (एफडब्लूआइसीई) के प्रेसिडेंट बीएन तिवारी,जनरल सेक्रेटरी अशोक दुबे और ट्रेजरार गंगेश्वरलाल श्रीवास्तव तथा मुख्य सलाहकार अशोक पंडित  ने  इस पत्र में कहा   कि, हिंदी फिल्म इंडस्ट्री  और टीवी शो से जुड़े 32 क्राफ्ट संस्थाओं की मदर बॉडी फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉइज (एफडब्लूआइसीई) के तहत तकरीबन 5 लाख दिहाड़ी मजदूर व तकनीशियन काम करते हैं। बीएन तिवारी, अशोक दुबे और गंगेश्वरलाल श्रीवास्तव ने अपने 5 लाख सदस्यों की ओर से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है।

इन सभी ने इस मुद्दे पर जल्द से जल्द फैसला लेने की अपील की है।फेडरेशन की तरफ से जारी की गई एक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि देश में अकस्मात हुए लॉकडाउन की वजह से मीडिया और फिल्म इंडस्ट्री को भारी नुकसान से गुजरना पड़ रहा है। सभी फिल्मों और टीवी की शूटिंग रुकी हुई है जबकि कुछ फिल्में ऐसी हैं जिनकी शूटिंग पूरी हो चुकी है लेकिन सिर्फ पोस्ट प्रोडक्शन का काम जैसे; एडिटिंग, म्यूजिक रिकॉर्डिंग, साउंड रिकॉर्डिंग, आदि ही बाकी हैं। यह कुछ ऐसे काम है जिनको थोड़े से ही कर्मचारी एक बंद स्टूडियो में अंजाम दे सकते हैं।

Continue Reading

ट्रेंडिंग

राणा दग्गुबाती: सभी इंडस्ट्री की वापसी के साथ, शायद मलयालम इंडस्ट्री बहुत तेजी से वापसी कर सकते हैं!

नाइक नाइक एंड कंपनी की वेब सीरीज़ का तीसरा सेशन ‘रिइंवेंट एंड रिडिस्कवर – टैलेंट एंड टैलेंट मैनेजर्स पर्सपेक्टिव’ राणा दग्गुबाती, हुमा कुरैशी, जैकी भगनानी

Published at

on

नाइक नाइक एंड कंपनी की वेब सीरीज़ का तीसरा सेशन ‘रिइंवेंट एंड रिडिस्कवर – टैलेंट एंड टैलेंट मैनेजर्स पर्सपेक्टिव’ राणा दग्गुबाती, हुमा कुरैशी, जैकी भगनानी, फिल्म निर्माता संजय गुप्ता मधुर भंडारकर  और विजय सुब्रमणियम (सह-संस्थापक और सीईओ कवान टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी प्राइवेट लिमिटेड),  काफी दिलचस्प और सूचनात्मक रहा है।

नाइक नाइक एंड कंपनी की वेब सीरीज़ का तीसरा सेशन ‘रिइंवेंट एंड रिडिस्कवर – टैलेंट एंड टैलेंट मैनेजर्स पर्सपेक्टिव’ राणा दग्गुबाती, हुमा कुरैशी, जैकी भगनानी, फिल्म निर्माता संजय गुप्ता और मधुर भंडारकर, विजय सुब्रमणियम (सह-संस्थापक और सीईओ कवान टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी प्राइवेट लिमिटेड), कालेब फ्रेंकलिन (संस्थापक और प्रबंध भागीदार, मैटर एडवाइजर्स) और गुंजन आर्य (सीईओ- ओनली मच लाउडर) सहित सभी प्रतिष्ठित पैनलिस्टों के समर्थन के साथ, काफी दिलचस्प और सूचनात्मक रहा है।

मनोरंजन उद्योग के भविष्य के पुनरुद्धार और नए बदलाव के अनुकूल होने के संदर्भ पर कुछ रोशनी डालते हुए, राणा दग्गुबाती ने कहा, “मनुष्य बहुत जल्द बदलाव के अनुकूल होगा और यह बात अभिनेताओं पर भी लागू होती है। यदि केवल एक ही विशेष तरीके से काम किया जा सकता है, तो उसे उस एकमात्र तरीका से ही किया जाएगा। “

*राणा आगे कहते हैं*, “मैं हैदराबाद और हिंदी सिनेमा की तुलना में विभिन्न फिल्म उद्योग की तरफ से बात कर रहा हूं जहां नियम थोड़े अलग हैं। वह सभी इंडस्ट्री जो वापसी करेंगी, शायद मलयालम उद्योग हम सभी की तुलना में बहुत तेज़ी से वापस आ सकते हैं क्योंकि वे सबसे छोटी यूनिट का उपयोग करते हैं और इसलिए वे बहुत तेज़ी से सिनेमा कर सकते हैं। उनके पास बहुत सीमित संसाधन हैं और उन्होंने उसी के साथ बड़ा सिनेमा बनाया है। न्यूनतम संसाधनों के साथ काम करने के बदलाव के लिए अनुकूल होना बहुत मुश्किल नहीं है और मुझे यकीन है कि अन्य उद्योग भी इस बदलाव को बहुत तेजी से अपना लेंगे।”

*हुमा कुरैशी ने खुलासा किया कि* कंटेंट डेवलपर्स के लिए लॉकडाउन एक अच्छा समय है, चाहे वह एक लंबा या छोटा फॉरमेट हो, क्योंकि यह सब लेखन पहलू पर निर्भर करता है। “मेरे एक लेखक मित्र के साथ मेरी बहुत दिलचस्प बातचीत हुई है कि लोग इन दिनों क्या देखने में दिलचस्पी ले रहे हैं, जैसे कि शायद कुछ धांसू या धुंआधार हो सकता है … लेकिन वहाँ मौजूद हर किसी की राय थी कि लोग कुछ ऐसा देखना चाहते हैं जो बहुत लाइट हो, क्योंकि पहले से ही कोविड19 की वजह से उदासी और मौत की रिपोर्ट देखने मिल रही है। लेकिन फिर मैंने पाताल लोक देखी और इसने मेरे होश उड़ा दिए। यह वास्तव में अच्छी गुणवत्ता लेखन और अच्छी कंटेंट है। इसलिए फिर से, लोगों द्वारा अनुमान लगाया जा रहा हैं कि ‘अभी तो ये चलने वाला है’। हमें नई दुनिया और नई चुनौतियों को अपनाना होगा और जो होने वाला है, उसके अनुकूल होना होगा। ”

*थिएटर और ओटीटी प्लेटफॉर्म पर अपने विचार साझा करते हुए, फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने कहा*, “मैंने 2001 से जब फिल्में बनाना शुरू किया था तब से वैसा कंटेंट बना हूँ जो ओटीटी अब बना रहा है। लेकिन हां, ओटीटी के आगमन के साथ पिछले कुछ वर्षों में कंटेंट नैरेटिव में काफी बदलाव आया है। ऐसा लग रहा है कि कोविड के बाद एक मिसाल बदलाव आएगा और मार्केटिंग को फिर से आश्वस्त करना होगा। टैलेंट हमेशा रहेगा और सिनेमा भी हमेशा रहेगा। लेकिन साथ ही, लेखन, अभिनेताओं, निर्देशकों और सभी के संदर्भ में, ओटीटी ने प्रतिभा को एक अच्छा ब्रेक दिया है। सिनेमा और ओटीटी दोनों एक साथ अस्तित्व में होंगे और अच्छा कारोबार करेंगे।”

नाइक नाइक एंड कंपनी ने पिंकविला के सहयोग से फेसबुक पर लाइव सत्र आयोजित किया था। तीन दिवसीय पहल (15-17 मई, 2020) का उद्देश्य भविष्य में कोविड-19 के बाद की योजना बनाने के बारे में अपने विचारों को साझा करना था जिसके लिए मीडिया और मनोरंजन उद्योग की मशहूर हस्तियों और इंफ्लुएंसर को एक साथ लाया गया था।

बॉलीवुड की ताज़ा तरीन खबरों के लिए https://cineblitz.in/hi/ के साथ बने रहें। 

Continue Reading

Trending

>