Connect with us
Advertisement

ट्रेंडिंग

जन्मदिन मुबारक: कुछ यूं रही आर डी बर्मन की प्रेम कहनीं

यूं मानों कि पंचमदा की प्रशिद्दी हिंदी सिनेमा में उनके जीवन के लगभग 30 वर्षों तक रही

Published

on

आर डी बर्मन जिनके शुरू के दीवाने लाखों-करोड़ो की मात्रा में लोग भारत की गलियों में घूमते नज़र आएंगे। आज भी लोग उन्हें ‘पंचम दा के नाम से जानते हैं। ऐसा माना जाता है, कि 30 वर्षों तक पंचमदा ने सात शूरों की दुनिया पर अपना दबदबा कायम रखा। यूं मानों कि पंचमदा की प्रशिद्दी हिंदी सिनेमा में उनके जीवन के लगभग 30 वर्षों तक रही। उस महान संगीतकार का आज जन्मदिन है। आज इस उपलक्ष पर हम आप को इसकी निज़ी ज़िंदगी के बारे से अवगत कराने की कोशिस करते हैं।

हम आप को बात दें कि पंचमदा ने अपने से 6 साल बड़ी मशहूर गायिका आशा भोसले से परिणय शुत्र में बांध गए थे । ऐसा माना जाता है कि, दोनों की प्रेम कहानी एक पूरी किताब है। 1956 में आशा भोसले पंचमदा से मिली थीं। उस वक्त आशा भोसले मात्रा 23 वर्षो की ही थीं।

आर डी बर्मन की उसे पहली मुलाकात एक रिकॉर्डिंग स्टुडिओं में हुई थी। उनके पिता डी बर्मन ने आर डी बर्मन की मुलाकात आशा भोसले से कराई। उस दिन आशा ने आर डी बर्मन से बस ऑटोग्राफ ही लिया था। बाद में इन दोनों की दोस्ती काफी गहरी होती गई। यह प्रेम कहानी इतनी आगे बढ़ी कि आर डी बर्मन ने आशा भोसले को कुछ इस तरह से प्रपोज़ किया। आरडी बर्मन ने आशा भोसले से कहा कि “सिर्फ तुम ही हो जो शूरों को समझ सकती हो। मुझे तुम्हारी आवाज़ से प्यार है।” पर आशा समझ गई कि वह क्या कहना चाहते हैं। दोनों ने एक दूशरे से शादी करने का फैसला किया और परिणय शुत्र में बंधगए।

Advertisement
>