Connect with us
Advertisement

इंटरव्यू

‘बैंड बाजा बारात’ से ‘गली बॉय’ तक के सफर का राज़ खोलते रणवीर सिंह

Published

on

33 वर्षीय रणवीर सिंह ने अपने फ़िल्मी सफर के दौरान उन सभी मुकामों को हासिल किया, जिसे शायद उन्होंने भी सोचा न हो। 2018 में संजय लीला भंसाली के निर्देशन में आई ‘पद्मावत’ सुपर डुपर हिट रही और अब वर्ष के आखिरी सप्ताह में आने वाली उनकी फिल्म ‘सिम्बा’ के भी बेहद हिट जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। इसके बाद रणवीर वर्ष 2019 में ज़ोया अख्तर की म्यूजिकल ड्रामा फिल्म ‘गली बॉय’ और कबीर खान के निर्देशन में 1983 के वर्ल्ड कप विजेता कप्तान कपिल देव की बायोपिक ’83’ में भी नज़र आने वाले हैं। एक यादगार करैक्टर के बाद फिर दूसरे में खुद को ढ़ालना रणवीर को सबसे अलग बनाता है। स्क्रीन पर परिपक्वता को लेकर रणवीर कहते हैं कि मैं अपना मूल पेशा कभीं नहीं भूलता, जो कि एक्शन और कट के दरमियान उसे निभाने की मेरी कोशिश होती है। अपने काम के दौरान मुझे बहुत सी परेशानियों से होकर गुजरना पड़ता है, लेकिन मेरी कोशिश होती है कि मेरा ध्यान मेरे काम पर रहे। अपने काम में इस तरह डूबने के साथ-साथ वह 6 वर्ष तक दीपिका पादुकोण के साथ रिलेशनशिप में रहे और फिर उनसे शादी कर ली। इस पर रणवीर कहते हैं कि मैं 8 साल से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को हिस्सा रहा हूँ, और इस दौरान 6 वर्ष तक मैंने और दीपिका ने एक साथ काम किया है। मैंने दीपिका से इस दरमियान बहुत कुछ सीखा है। इनके मुंबई रिसेप्शन के दो दिनों बाद एक्सपर्ट्स द्वारा एक खास इंटरव्यू लिया गया, जहाँ रणवीर ने इन सभी पहलुओं पर खुल कर अपनी बात रखी।

आप अपने जीवन के सबसे सुखद दौर में हैं, वर्ष 2018 में आपके लिए सबसे खूबसूरत पल कौनसा रहा?
मैंने अपने जीवन में अब तक इसप्रकार की ख़ुशी महसूस नहीं की है। पिछले कुछ हफ्ते (शादी के बाद) जादुई गुज़रे हैं। यह वर्ष शानदार गुजरा है। मेरे लिए साल की शुरुआत पद्मावत जैसी ब्लॉक बस्टर फिल्म से हुई, उसके साथ मुझे काफी आलोचनाएं भी झेलनी पड़ी थीं। साल 2019 की शुरुआत ज़ोया अख्तर की ‘गली बॉय’ फिल्म से होनी है, जिसमें मेरे साथ आलिया है। गली बॉय एक स्पेशल फिल्म है जो की मुंबई की गलियों में रहने वाले स्ट्रीट रैपर्स की रियल लाइफ से प्रेरित है। इसके बाद सिम्बा भी काफी चर्चा में है। हालाँकि इन सबके अलावा मेरी शादी ज्यादा अहम रही है। इस प्रकार के वैवाहिक समारोह की कल्पना मैंने नहीं की थी, लेकिन यह दीपिका की सोच थी। जिस तरह यह सब हुआ है, उससे मैं बहुत खुश हूँ। आँखों में ख़ुशी के आंसू और अपनों की खूबसूरत यादों के साथ नवंबर का महीना मेरे लिए बेहद भावनात्मक था।

आपकी आगामी फिल्म सिम्बा देश में लगातार हो रहे रेप और यौन हिंसा को दर्शाती है। क्या आपको लगता है कि फिल्मों को समाज का आईना बनना ज़रूरी है?
फ़िल्में समाज का आईना होती हैं और रोहित शेट्टी इस फिल्म के माध्यम से उन सामाजिक मुद्दों को हमारे बीच लाएंगे, जिसको देखकर हम अपना आक्रोश छुपा नहीं सकेंगे। पहले ही हमने कहा है कि यह एक फिल्म है और हमें इसे एक फिल्म की तरह ही देखना चाहिए। एक अभिनेता के तौर पर मुझे हर प्रकार के किरदार निभाने में मजा आता है।

जब पहली बार सिम्बा की कहानी आपको सुनाई गई तो आपका पहला रिएक्शन क्या था? क्या आपने दीपिका से रोहित शेट्टी के साथ फ़िल्मी अनुभव के बारे में सलाह ली?
मैं रोहित शेट्टी के साथ काम करना चाहता था, क्योंकि वह मसाला फिल्मों के किंग रहे हैं। वह इससे पहले सिंघम, चेन्नई एक्सप्रेस और गोलमाल 3 जैसी मसाला फ़िल्में बना चुके हैं। हमने इससे पहले हैदराबाद में एक एडशूट साथ मिलकर किया था और उसकी डबिंग के दौरान उन्होंने मुझसे कहा कि मैं आपके साथ एक फिल्म करना चाहता हूँ और मैंने उन्हें तुरंत हाँ कह दिया था। शूटिंग के बाद का अनुभव बेहतर रहा, जितना सोचा नहीं था, यह उससे अधिक चुनौतीपूर्ण फिल्म थी। इस दौरान दीपिका का अनुभव भी मैंने जानने की कोशिश की। इस फिल्म की शुटिंग हमारे लिए काफी मुश्किल थी।

आपने इस साल की शुरुआत एक ऐतिहासिक ड्रामा फिल्म से की, जिमसें आपने विलेन की भूमिका निभाई थी। अब सिम्बा में भी आपने कुछ वैसा ही किरदार निभाया है। आपको नहीं लगता कि आप विपरीत भूमिका में लोकप्रिय हो रहे हैं?
मैं इसप्रकार की भूमिका के लिए हमेशा से तैयार रहा हूँ। ऐसे करैक्टर प्ले करना मजेदार होता है। ऐसी भूमिका निभाने से मुझे बहुत कुछ सीखने भी मिलता है और यह मुझे रोमाँचक भी लगता है। हालाँकि दोनों किरदार निभाना मुझे पसंद नहीं है।

पिछली फिल्मों में आपका पसंदीदा विलेन कौन रहा है?
ऐसे तो कई नाम हैं, जिन्होंने अद्भुत प्रदर्शन किया है। जैसे हॉलीवुड मूवी क्लॉकवर्क ऑरेंज में मालकम मैकडोवेल का अलेक्स, डार्क नाइट में हीथ लेजर का जोकर, मिस्टर इंडिया में अमरीश पूरी का मोगैम्बो और शोले में अमजद खान का गब्बर किरदार मुझे बेहद पसंद है।

फिल्मों में आपका शानदार सफर रहा है। आप अपनी सफलता को कैसे देखते हैं और इसका श्रेय किसे देंगे?
जब मैंने एक्टर बनने का सपना देखा था, तब मैंने ये नहीं सोचा था कि चीजें इतनी बड़ी होंगी जितनी अभी हैं। मैं लगातार अच्छी फ़िल्में कर रहा हूँ और अच्छे फिल्मकारों के साथ मैं काम कर रहा हूँ। मैं अपनी इस सफलता का श्रेय अपने काम के प्रति ईमानदारी और कड़ी मेहनत को देना चाहूंगा। मैं ईमानदारी से अपने काम को करता हूँ और उसके बाद पुरस्कार पर भी नज़र रखता हूँ। मैं अपने करैक्टर की भूमिका को नहीं भूलता, जो कि एक्शन और कट के बीच में होती है। काम करते वक़्त कई परेशानियों से भी कभी कभी गुजरना पड़ता है, लेकिन उस वक़्त भी मेरी कोशिश होती है कि काम पर फोकस कर सकूँ।

ऐसे कौनसे लोग हैं जो आपको काम की ओर केंद्रित रहने में मदद करते हैं?
मेरा परिवार और दोस्तों का एक छोटा सा समूह है। उसमें दीपिका, बहन राधिका, मेरे दोस्त नवज़ार, करण और रोहन शामिल हैं। ये सभी लोग मेरे साथ ऑनेस्ट हैं। अगर मैं कुछ गलत काम करता हूँ, तो वह मुझे रोकते हैं। दीपिका इसमें सबसे अहम है। मैं 8 साल से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को हिस्सा रहा हूँ, और इस दौरान 6 वर्ष तक मैंने और दीपिका ने एक साथ काम किया है। मैंने दीपिका से इस दरमियान बहुत कुछ सीखा है। इनके अलावा मेरे माता-पिता हैं। माँ की नजरों मैं अच्छा बच्चा रहा हूँ, लेकिन पापा गलती करने पर मारने से नहीं चूकते। आदित्य चोपड़ा मेरे मेंटर रहे हैं, वह हमेशा मेरे साथ हैं। जब भी मुझे कोई सलाह लेनी होती है, तो मैंने इन खास लोगों के पास पहुँच जाता हूँ।

आपके ब्रांड्स के साथ आपका समीकरण अच्छा रहा है। एक कंडोम ब्रांड का पहले कोई ब्रांड अम्बैसेडर नहीं था, तो आपको साइन किया गया। आपके अंडर में फ़िलहाल 22 ब्रांड्स हैं, आप उसे कैसे देखते हैं?
ये मेरे विज्ञापन के पृष्ठभूमि के कारण होता है। मैं इसमें रचनात्मक रूप से दिलचस्पी लेता हूँ और अन्य अभिनेताओं से इसे अलग ढ़ंग से बताता हूँ। मेरा दृष्टिकोण ऐसा कतई नहीं है, सिर्फ मेरा विज्ञापन ऐसा होता है। मैं हमेशा इसमें अपना शत प्रतिशत देता हूँ। अगर मैं किसी ब्रांड का ब्रांड अम्बैसेडर होता, तो और अच्छा करने की कोशिश करता। शुरूआती 3-4 वर्षों तक मेरे पास ऐसा कोई ब्रांड नहीं था। मैं सोचता था कि अगर कुछ होता तो मैं बाकियों से बेहतर करता। वक़्त के साथ मुझे ऑफर्स मिले और मैं आगे बढ़ता गया। अगर ब्रांड्स कहते हैं कि बिना किसी एक्स्ट्रा शुल्क के एक्स्ट्रा करने के लिए, तो मैं करता हूँ। लेकिन इसपर दूसरे एक्टर्स कहते हैं कि मैं ब्रांड्स खराब कर रहा हूँ। सच यह है कि मुझे इसे करने का कोई दूसरा तरिका नहीं आता।

आप अपनी आगामी फिल्म गली बॉय के लिए गाने और रैपिंग भी कर रहे हैं। आज आपको कौनसी चीज प्रेरणा देती है?
प्रेरणा कहीं से भी मिल सकती है। मैं अपना फ़ोन उठाता हूँ, नोट्स पर क्लिक करता हूँ और टाइप करना शुरू कर देता हूँ। शब्द अपने आप बहने लगते हैं। मुंबई में पला बड़ा होने से यहाँ की संस्कृति से मैं पूरी तरह परिचित हूँ। जेडब्ल्यूटी में मेरे करियर के शुरूआती दौर में मुझे लिरिक्स एक्सपर्ट के रूप में भी देखा जाता था। किसी को भी तुकबंदी करवानी होती, तो वह मेरे पास आ जाता। जब मैं तीसरी-चौथी क्लास में था, तबसे मैं हिप हॉप का फैन रहा हूँ। मैं पूरे गाने को रैप में तब्दील कर लेता था। एक लम्बे समय से मैं हिप हॉप सुनता रहा हूँ और अब इस फिल्म में मेरी भूमिका वैसी ही है। गली बॉय फिल्म मुंबई के गलियों में रहने वाले ऐसे बच्चों की कहानी है, जो लिखते और प्रदर्शन करते हैं। वह गरीबी में बड़े हुए हैं और हार्ड वर्क करते हैं। इस फिल्म में मैं एक म्यूजिशियन का किरदार निभा रहा हूँ। मैंने इस एल्बम के लिए चार सॉन्ग गाये हैं।

आप फिल्म 83 में कपिल देव की भूमिका में नज़र आने वाले हैं।
कपिल जी की गेंदबाजी एक्शन को सीखना बेहद मुश्किल हो रहा है। इस वर्ष अगस्त में भारत के इंग्लैंड दौरे के दौरान मैंने सचिन से कहा था कि मैं कपिल देव की भूमिका निभा रहा हूँ। सचिन ने इसपर कहा था कि आप कपिल देव की गेंदबाजी एक्शन खुद से सीखोगे? ऑल द बेस्ट। अगर आप यह बायोपिक बनाते हो, तो आपको कपिल देव की गेंदबाजी एक्शन सीखनी पड़ेगी। अगर आप किसी का करैक्टर प्ले करते हैं, तो उसमें समस्याएं आना आम बात है। मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की है। मुझे क्रिकेट से प्यार है। अब तक 1983 विश्व कप विजेता भारतीय टीम पर कोई फिल्म नहीं बनी है, क्योंकि इसके लिए इससे संबंधित सभी लोगों को साथ लेना होता। लेकिन फिर भी फिल्म पूरी नहीं हो पाती।

जब आप किसी फिल्म की तैयारी न कर रहे हों, तो उस दौरान कोई आपसे कहाँ मिलेगा?
जब भी मुझे समय मिलता है, तो मैं अपनी डीजे स्किल को और बेहतर करने निकल पड़ता हूँ। इसके अलावा मैं खाली समय में वीडियो गेम्स खेलना भी पसंद करता हूँ। फीफा मेरा पसंदीदा वीडियो गेम है। मैं वीकेंड्स के दौरान फुटबॉल मैच देखता हूँ। मुझे स्पोर्ट्स में दिलचस्पी है और मैं फिट रहना पसंद करता हूँ।

शुरू में आपने बताया कि दीपिका ने किस प्रकार आपके स्वप्निल विवाह के बारे में प्लान किया था। उसमें आपका क्या योगदान था?
मैंने पहले ही सोच लिया था कि मैं संगीत की क्यूरेटिंग करूँगा। कम से कम एक दर्जन लोगों ने मुझे बताया कि यह सबसे अच्छे गीत थें, जो उन्होंने पहली बार किसी शादी समारोह में सुने। कोई भी डांस फ्लोर छोड़ने को तैयार नहीं था। पार्टी अगली सुबह 8.30 बजे तक चलती रही। मैं इन प्लेलिस्ट को पिछले एक साल से तैयार कर रहा था और मुझे गर्व है कि मैंने कुछ अच्छा बना लिया।

अब आपकी शादी को 8 सप्ताह हो चुके हैं। आप अपने दोस्तों को क्या सुझाव देना चाहेंगे?
मैं प्यार करता हूँ और सभी को करने की सलाह दूंगा। मेरी और दीपिका की बात की जाए, तो हमारे रिलेशनशिप के कुछ महीनों बाद ही मैंने सोच लिया था वह मेरी है और मैं पूरी ज़िन्दगी दीपिका के साथ बिताना चाहता हूँ। मैंने इन रीति-रिवाजों से पहले ही अपनी पूरी ज़िन्दगी दीपिका के नाम कर दी थी। मैं अब इंतजार कर रहा हूँ कि वह कब इसके लिए तैयार होती है।

Advertisement
>